Menu Close

Best Acharya Chanakya Niti Quotes in Hindi | आचार्य चाणक्य के विचार इन हिन्दी

अपनी जिंदगी में सफल बनने का सोचे है तो सिर्फ मेहनत से ही सफलता मिल पाना मुश्किल है क्योंकि सिख और शिक्षा तो गुरु से ही मिलती है इसलिए आचार्य चाणक्य को अपना गुरु मानकर इनके बताए विचार को पढिए एवं उसे अपने दैनिक जीवन मे लागू करें फिट सफलता जल्दी एवं जरूर मिलेगी|

हमने Chankya के अच्छे-अच्छे नीति वाक्य का उल्लेख किया है ताकि आप इसे पढ़कर असिलियत जान सकते है, Chanakya Vichar का बहुत से लोगों के सफल होने में योगदान रहा है|

About Acharya Chanakya | आचार्य चाणक्य के बारे में 

इनका जन्म 375 ई.पु. में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था, एवं इनका मृत्यु 283 ई.पु. में हुआ, पिता श्री चणक के पुत्र होने के कारण इन्हे भी चाणक्य कहा जाने लगा जो कौटिल्य या विष्णुगुप्त के नाम से भी विख्यात है, अपनी शिक्षा तक्षशिला से प्राप्त किए है| विष्णुगुप्त राजनीति, अर्थनीति, कूटनीति के महाविद्वान थे, इनके द्वारा रचित अर्थशास्त्र नामक ग्रंथ राजनीति, कृषि, अर्थनीति एवं समाजनीति आदि का महान ग्रंथ है इसे मौर्यकालीन भारतीय समाज का दर्पण माना जाता है|

चंद्रगुप्त को एक आम नागरिक से सम्राट में बदल दिया वो भी अपने बुद्धि से न की कोई राजनीतिक शक्ति से, चाणक्य मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चंद्रगुप्त मौर्य के शासन काल में मंत्री थे|

best chanakya quotes in hindi

आचार्य चाणक्य के सर्वश्रेष्ठ अनमोल विचार 

  • “विद्या एक ऐसा धन है जिसे चोर भी नहीं चुरा सकता” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “अच्छे समय से ज्यादा, अच्छे इंसान के साथ रिश्ता रखो, अच्छा इंसान अच्छा समय ला सकता है लेकिन नाच्छा समय अच्छा इंसान नहीं ल सकता” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “हर नई शुरुआत थोड़ी डराती है, पर याद रखो सफलता मुश्किलों के बाद ही नजर आती है” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “भूख पेट, खाली जेब और झूठा प्रेम इंसान को जीवन में बहुत कुछ सिखा जाता है” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “अहंकार उसी को होता है, जिसे बिना मेहनत सबकुछ मिल जाता है, मेहनत से सुख प्राप्त करने वाला व्यक्ति दूसरों की मेहनत का भी सम्मान करता है|” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “जैसे एक बछड़ा हजारों गायों के झुंड में अपनी माँ के पीछे चलता है, उसी प्रकार आदमी के अच्छे एवं बुरे कर्म पीछे चलते है|” – आचार्य चाणक्य
  • । 
  • “क्रोध में बोल एक कठोर शब्द इतना जहरीला हो सकता है की, आपकी हजार प्यारी बातों को एक मिनट में नष्ट कर सकता है|” – आचार्य चाणक्य
  • । 
  • “प्रेम और आस्था दोनों पर ही किसी का जोर नहीं है, ये मन जहां लग जाए वही पर भगवान नजर आते है|” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “किसी को ज्ञान उतना ही दो जितना वो समझ सके, क्योंकि बाल्टी भरने के बाद नल न बंद करने से पानी व्यर्थ हो जाता है|” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “जो बुरे व्यक्त में आपकी कमिया गिनाने लग जाए, उससे ज्यादा मतलबी इंसान कोई हो नहीं सकता|” – आचार्य चाणक्य 

चाणक्य नीति की 10 बातें जो आपको सफल बना देगी|

ये 10 विचार पढ़ने के बाद अपने दैनिक जीवन में इसे लागू करें इसका लाभ आवश्य मिलेगा और सफल व्यक्ति होने में अहम भूमिका है ये विचार का|

  1. अनुशासन में रहें 
  2. क्रोध पर संयम रखे 
  3. आलस कभी न करे ये सफलता का दुश्मन है 
  4. अहंकार कभी न करें 
  5. लोभ या लालच कभी न करें 
  6. शिक्षा बहुत जरूरी है इसे जरूर प्राप्त करें 
  7. किसी को धोखा नहीं देना चाहिए 
  8. हमेशा अच्छी संगति चुने 
  9. दूसरों की गलती से सीखना चाहिए 
  10. अपनी क्षमता का सही आकलन करें|

Chanakya Quotes in Hindi | चाणक्य सुविचार हिन्दी में 

  • “भगवान सभी को एक ही मिट्टी से बनाता है, बस फर्क इतना है की कोई बाहर से खूबसूरत है तो कोई अंदर से” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “आग में घी नहीं डालना चाहिए, अर्थात क्रोधी व्यक्ति को और अधिक क्रोध नहीं दिलाना चाहिए” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “दौलत, दोस्त, पत्नी और राज दुबारा हासिल किए जा सकते है, लेकिन ये शरीर दुबारा हासिल नहीं किया जा सकता” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “फूलों की खुशबू हवा की दिशा में ही फैलती है, लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई चारों तरफ फैलती है” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “बुद्धि से पैसा कमाया जा सकता है, लेकिन पैसे से बुद्धि कभी नहीं” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “आवश्यकता से अधिक ईर्ष्या, आपके अंदर आत्मविश्वास की कमी को झलकाती है|” – आचार्य चाणक्य 
  • । 
  • “आँख में पड़ा हुआ तिनका, पैरों मे चुभा हुआ काँटा एवं रुई में दबी हुई आग से भी भयानक है हृदय में छुपा हुआ छल/कपट” – आचार्य चाणक्य 
  • “मेहनत सीखे चींटी से, बगुले से सीखे तरकीब एवं मकड़ी से कारीगरी सीखे और अपने अंतिम समय तक संघर्ष जारी रखे क्योंकि संघर्ष ही जीवन है” – आचार्य चाणक्य 
  • “झुकना बहुत अच्छी बात है ये नम्रता की पहचान है, मगर आत्मसम्मान को खोकर झुकना खुद को खोने से कम नहीं है|” – आचार्य चाणक्य 
  • “अपने राज/योजना किसी को मत बताओ,ये तुम्हें खत्म कर देगा|” – आचार्य चाणक्य 

Leave a Reply